Hi friends,
Some recent observations about the urban Indian girls made me write these lines. Despite all the conditioning of mind, through families, relatives & society; she is confident, fearless & ready to face the world. Enjoy reading.

वह आज की युवा लड़की:

– जो गालियों का उपयोग धड़ल्ले से करती है.
– जो किसी के घूर कर देखने पर उसे ‘मिडल फिंगर’ दिखा देती है.
– जो रिश्तों की अहमियत बखूबी समझती है.
– जो दुनिया की हैरान आँखों के बावजूद हर वह काम करती है जिस पर अब तक केवल लड़कों का वर्चस्व था.
– जो अकेले अपने माता-पिता का ध्यान रख सकती है.
– जो आँख के आँसुओं को छिपा दुनिया से लड़ सकती है.

वह… हाँ, वह लड़की मेरा प्रणाम स्वीकार करे.

Peace
Medhavi 🙂

If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

The following two tabs change content below.

Medhavi Jain

As a writer & a Life Coach, I am determined to make a positive change in people's lives.

Latest posts by Medhavi Jain (see all)