Skip to content Skip to footer

A poem dedicated to Indian housewives

कमाल है, उसकी वजह से घर, घर होता है उस संग जागता, उस संग ही सोता है वह घर के कण-कण में रहती है फर्नीचर, पर्दों, रसोई के बर्तनों में बसती है फिर भी अपने वजूद को सबमें तलाशती है सबकी आँखों में अपने व्यक्तित्व की पुष्टि चाहती है ओ…

Read more

A Tribute to The Modern Indian Girl

Hi friends, Some recent observations about the urban Indian girls made me write these lines. Despite all the conditioning of mind, through families, relatives & society; she is confident, fearless & ready to face the world. Enjoy reading. वह आज की युवा लड़की: - जो गालियों का उपयोग धड़ल्ले से करती…

Read more