Skip to content Skip to footer

Conscious- Subconscious

1295912638802924

चेतन और अवचेतन की लड़ाई में
जीत तो चेतन की ही होगी.
चूँकि चेतन मेरा आज का पुरुशार्थ है
और अवचेतन इतिहास से पूर्ण.
जो मेरे प्रत्येक प्रयास पर
मुझे भयभीत करता है, रोकता है
रहने दो, तुमसे नहीं होगा.
किन्तु चेतन भी दृढ़ है
अब तो यह मंज़िल हासिल करके ही रहेगा
चूँकि अब यह जाग्रत है.
Thoughtful Sunday Pals!!!
Medhavi 🙂